37.1 C
New Delhi
May 16, 2022
देश विदेश

अल-क़ायदा, आईएसआईएस, लश्कर-ए-तैयबा, जैश-ए-मोहम्मद और हिज़्ब-उल मुजाहिदीन सहित सभी आतंकवादी नेटवर्क के खिलाफ ठोस कार्रवाई के लिए जोर दिया गया

भारत और संयुक्त राज्य अमेरिका ने इस्लामाबाद को आतंकवादी हमलों के अपराधियों को जल्द से जल्द लाने के लिए कहा है, जिसमें 26/11 मुंबई आतंकवादी हमले और पठानकोट एयरबेस हमले शामिल हैं। भारत-अमेरिका काउंटर टेररिज्म जॉइंट वर्किंग ग्रुप और कल संपन्न हुए भारत-यूएस पदनाम संवाद की बैठक के बाद जारी एक संयुक्त बयान में इसकी घोषणा की गई। भारत और अमेरिका दोनों ने कहा कि पाकिस्तान को तत्काल, निरंतर और अपरिवर्तनीय कार्रवाई करने की तत्काल आवश्यकता है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि उसके नियंत्रण वाले किसी भी क्षेत्र का उपयोग आतंकवादी गतिविधियों के लिए नहीं किया जाता है।

बयान में, दोनों पक्षों ने आतंकवादी परदे के पीछे के इस्तेमाल की निंदा की और अपने सभी रूपों में सीमा पार आतंकवाद की कड़ी निंदा की। संयुक्त राष्ट्र द्वारा स्वीकृत आतंकवादी संस्थाओं द्वारा उत्पन्न खतरों पर दृश्यों का आदान-प्रदान किया गया। अल-क़ायदा, आईएसआईएस, लश्कर-ए-तैयबा, जैश-ए-मोहम्मद और हिज़्ब-उल मुजाहिदीन सहित सभी आतंकवादी नेटवर्क के खिलाफ ठोस कार्रवाई के लिए जोर दिया गया था।

दोनों देशों ने आतंकवादी समूहों और व्यक्तियों के खिलाफ प्रतिबंधों को आगे बढ़ाने के लिए अपनी प्राथमिकताओं के बारे में जानकारी साझा की।

अंतरराष्ट्रीय आतंकवादियों की यात्रा की क्षमता को बाधित करने के लिए सूचना साझाकरण और अन्य कदमों पर सहयोग को मजबूत करने के लिए संयुक्त प्रतिबद्धता भी बनाई गई थी। आतंकवादी संगठनों के वित्तपोषण और संचालन का मुकाबला करने सहित काउंटर आतंकवाद की चुनौतियों पर चर्चा की गई। आतंकवादियों द्वारा कट्टरपंथीकरण और इंटरनेट के उपयोग, आतंकवादियों की सीमा पार आवाजाही, मुकदमा चलाने, पुनर्वास करने, और वापस लौटने वाले आतंकवादी लड़ाकों पर लगाम लगाने जैसे मुद्दों पर भी चर्चा की गई। दोनों पक्षों ने आपसी कानूनी और प्रत्यर्पण सहायता, द्विपक्षीय कानून प्रवर्तन, प्रशिक्षण और सहयोग पर भी चर्चा की।

Related posts

भारत और यूनाइटेड किंगडम ने आतंकवाद के वैश्विक खतरे से निपटने के लिए अंतर्राष्ट्रीय सहयोग को मजबूत करने की आवश्यकता पर बल दिया

आजाद ख़बर

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी और रूस के राष्‍ट्रपति व्‍लादिमीर पुतिन के बीच 21वां भारत-रूस वार्षिक शिखर सम्‍मेलन नई दिल्‍ली में सम्‍पन्‍न हुआ

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी विश्व जल दिवस के अवसर पर आज कैच द रेन यानी वर्षा जल संचय अभियान का वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से शुभारंभ करेंगे

Leave a Comment

आजाद ख़बर
हर ख़बर आप तक