13.1 C
New Delhi
January 18, 2022
अर्थव्यवस्था देश

आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना के लिए एक हजार पांच सौ 84 करोड़ रुपये के खर्च की मंजूरी

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने चालू वित्त वर्ष में आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना के लिए एक हजार पांच सौ 84 करोड़ रुपये के खर्च की मंजूरी दी है। इस योजना की संपूर्ण अवधि यानी 2020 से 2023 तक के लिए बाईस हजार आठ सौ दस करोड़ रुपये स्वीकृत किए गए हैं। श्रम और रोजगार मंत्री संतोष कुमार गंगवार ने बताया कि इस योजना से लगभग 58 लाख पचास हजार कर्मचारियों को फायदा होगा। उन्होंने कहा कि योजना के अंतर्गत सरकार एक अक्तूबर 2020 से तीस जून 2021 तक काम पर रखे गए कर्मचारियों को दो साल के लिए सब्सिडी देगी। सरकार एक हजार कर्मचारियों की संख्या वाले प्रतिष्ठानों के नए कर्मचारियों के लिए नियोजक के 12 प्रतिशत के अंशदान के साथ-साथ कर्मचारियों के हिस्से के 12 प्रतिशत का भी भुगतान करेगी। सरकार की ओर से कुल 24 प्रतिशत का अंशदान कर्मचारी भविष्य निधि खाते में किया जाएगा। कर्मचारी भविष्य निधि संगठन इस अंशदान को कर्मचारी के आधार नम्बर से जुडे भविष्य निधि खाते में इलेक्ट्रोनिक तरीके से जमा करेगा। मंत्रिमंडल ने सार्वजनिक वाई-फाई सुविधा प्रदान करने के लिए डेटा कार्यालयों के माध्यम से लाइसेंस शुल्क के बिना सार्वजनिक वाई-फाई नेटवर्क लगाने को भी मंजूरी दे दी है।
दूरसंचार और सूचना प्रोद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा है कि सार्वजनिक वाई-फाई एक्सेस नेटवर्क इंटरफेस को पीएम-वाणी के रूप में जाना जाएगा। उन्होंने कहा कि इससे सार्वजनिक वाई-फाई नेटवर्क को बढ़ावा मिलेगा और देश में वाई-फाई क्रांति आएगी। श्री प्रसाद ने यह भी कहा कि मंत्रिमंडल ने मुख्य भूमि में कोच्चि को लक्षद्वीप से समुदी ऑप्टिकल फाइबर केबल संपर्क से जोडने की परियोजना को भी मंजूरी दे दी है। उन्होंने बताया कि इस पर एक हजार 72 करोड़ रुपये की लागत आएगी।

Related posts

रोम से वापस लाए गए सभी 263 भारतीय

भारत कल ब्यूनस आयर्स में ओलंपिक चैंपियन अर्जेंटीना से भिड़ेगा

पीएम मोदी आज शाम पंजाब के अमृतसर में जलियांवाला बाग स्मारक के पुनर्निर्मित परिसर को राष्ट्र को समर्पित करेंगे

Leave a Comment

आजाद ख़बर
हर ख़बर आप तक