20.8 C
New Delhi
November 30, 2021
क्षेत्रीय न्यूज़ देश

टोला में सड़क नहीं तो मजबुरी में चलते हैं खेतों के मेड़ पर

रैहान अख्तर (ब्यूरो चीफ कोल्हान)

सरकारी उपेक्षा के चलते छह माह टापू में तब्दील रहता गांव,आजादी के दशकों बाद भी कुमारडुँगी प्रखंड मुख्यालय से महज नौ किलो मीटर की दूरी पर बसा अंधारी गांव के टोला पाण्डुसाई के वाशिंदे सरकारी उपेक्षा का खामियाज भुगतने को विवश हैं।

मझगाँव: आजादी के दशकों बाद भी कुमारडुंगी प्रखंड मुख्यालय से महज नौ किलो मीटर की दूरी पर बसा अंधारी गांव के टोला पाण्डुसाई के वाशिंदे सरकारी उपेक्षा का खामियाज भुगतने को विवश हैं। बरसात शुरू होते ही यह टोला आठ माह तक टापू में तब्दील हो जाता है। लोग खेतों के मेड़ के सहारे गांव से बाहर आते जाते हैं। सुखाड़ के समय खेत की पगडंडी ही सहारा है। यहाँ के लोग एक अदद सड़क व पुल के लिए वर्षों से तरस रहे हैं। प्रत्येक पांच साल पर चुनाव के दौरान सांसद व विधायक इस टोला के लोगों को सड़क व पुल निर्माण का आश्वासन देकर वोट लेते हैं। परंतु, इन लोगों की समस्या का समाधान आज तक नहीं हुआ।

बताते चलें कि ग्राम पँचायत अंधारी के पाण्डुसाई टोला एक अदद सड़क व पुल के अभाव में लोग जीवन की मूलभूत सुविधाओं से वंचित हो अपने आप को कोसते है। इस बाबत ग्रामीण गुरुचरण पान, पार्वती देवी,सुगंधा देवी,सलमान पान आदि कहते हैं कि आखिर इस टोला में हमारे पूर्वज आकर क्यों बसे जहां सड़क ही नहीं है। लोग जान जोखिम में डालकर इस रास्ते पर सफर करते है। लोगों ने सरकारी अधिकारी व जनप्रतिनिधियों के वादा खिलाफी को कोसते हुए कहा कि लोकसभा और विधानसभा चुनाव के दौरान सांसद, विधायक उम्मीदवार ग्रामीणों को झूठा आश्वासन देकर वोट लेते हैं।

परंतु चुनाव जीत जाने के बाद फिर लौट कर नहीं आते हैं। आज तक एक अच्छी सड़कक व पुल का निर्माण नहीं कराए जाने से लोगों में आक्रोश व्याप्त है। सुरेन पान ने बताया कि कई बार सांसद, विधायक के अलावे उच्चाधिकारियों से मिलकर पुल निर्माण के लिए गुहार लगा चुका। लेकिन, आजतक इस ओर किसी का ध्यान आकृष्ट नहीं हो रहा है। कोई हमारी इस समस्या की सुध नहीं ले रहे हैं। हमारे पास इतनी राशि और अधिकार कहां कि सड़क व पुल का निर्माण कराई जा सके।

Related posts

दसवीं के नाबालिग छात्रों पर चढ़ा प्यार का परवान, दोनों नाबालिग को पुलिस ने किया बरामद

आजाद ख़बर

अंडरपास निर्माण होने तक चांडिल के KS8 रेलवे फाटक को दोबारा खोलने का किया आग्रह

आजाद ख़बर

मेहनत के अनुसार मूल्य नहीं,रोजगार के लिये प्रशिक्षित नहीं, चिंतित ग्रामीण !

आजाद ख़बर

Leave a Comment

आजाद ख़बर
हर ख़बर आप तक