30.1 C
New Delhi
August 13, 2022
देश संस्कृति

काशी विश्वनाथ धाम केवल भव्य इमारत ही नहीं बल्कि भारत की सनातन संस्कृति और आध्यात्मिक शक्ति का प्रतीक: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

राष्ट्रीय समाचार डेस्क

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तर प्रदेश के वाराणसी में  काशी विश्वनाथ धाम का उद्घाटन किया। इस अवसर पर प्रधानमंत्री ने कहा कि काशी विश्वनाथ धाम न केवल भव्य इमारत है बल्कि हमारी सनातन संस्कृति और हमारी आध्यात्मिक बल का प्रतीक है। उन्होंने कहा कि यह भारत की पुरातनता, परंपराओं, हमारी ऊर्जा और गतिशीलता का प्रतीक है।

मोदी ने कहा कि काशी विश्वनाथ मंदिर का परिसर पहले केवल 3000 वर्ग फुट के क्षेत्र में फैला हुआ था, लेकिन अब इसे 5 लाख वर्ग फुट के क्षेत्र में विस्तारित किया गया है। उन्होंने कहा कि नए परिसर से विशेष रूप से दिव्यांग और वरिष्ठ नागरिकों के लिए तीर्थयात्रा आसान हो जाएगी।

प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि काशी इतिहास रच रहा है और यह हमारा सौभाग्य है कि हम इसके साक्षी हैं।

प्रधानमंत्री ने इस भव्य परिसर के निर्माण में शामिल प्रत्येक कार्यकर्ता का आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि कोविड महामारी के बावजूद काशी विश्वनाथ धाम का निर्माण कार्य नहीं रुका। प्रधानमंत्री ने कारीगरों, निर्माण से जुड़े लोगों, प्रशासन और निर्माण स्थल से पुनर्वासित परिवारों की भी सराहना की।

प्रधानमंत्री ने कहा कि काशी ने अतीत में क्रूरता देखी है लेकिन यह बना रहा और खुद को बेहतर बनाया। इस अवसर पर प्रधानमंत्री ने शिवाजी और महाराजा सुहेलदेव का स्मरण किया। उन्होंने कहा कि भारत ने अपने रास्ते में आने वाली किसी भी चुनौती का सामना करने के लिए समय-समय पर अपनी ताकत का प्रदर्शन किया है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि काशी विश्वनाथ धाम भारत को निर्णायक दिशा देगा और उज्ज्वल भविष्य की ओर ले जाएगा। उन्होंने कहा कि यह परिसर हमारी क्षमता और हमारे कर्तव्य का प्रमाण है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि आज का भारत अपनी खोई हुई विरासत को पुनर्जीवित कर रहा है। उन्होंने कहा कि हाल ही में काशी से चोरी हुई माता अन्नपूर्णा देवी की प्रतिमा को वापस लाकर यहां फिर से स्थापित किया गया है।

मोदी ने यह भी कहा कि आज का न्यू इंडिया न केवल अयोध्या में मंदिर बना रहा है बल्कि हर जिले में मेडिकल कॉलेज भी बना रहा है। उन्होंने कहा कि आज का न्यू इंडिय़ा न केवल काशी विश्वनाथ धाम का निर्माण कर रहा है बल्कि गरीबों के लिए पक्के घर भी बना रहा है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि काशी विश्वनाथ धाम का उद्घाटन भारत के उज्जवल भविष्य को एक निर्णायक दिशा प्रदान करेगा।

प्रधानमंत्री ने नागरिकों से स्वच्छता, सृजन और आत्मनिर्भर भारत के लिए निरंतर प्रयास तीन संकल्प लेने को कहा।

इससे पहले दिन में, प्रधानमंत्री ने काशी के रक्षक के रूप में जाने वाले काल भैरव मंदिर में पूजा-अर्चना करके वाराणसी की अपनी यात्रा की शुरुआत की। इसके बाद प्रधानमंत्री ने गंगा नदी में डुबकी लगाई और काशी विश्वनाथ गलियारे से होते हुए गंगाजल लेकर काशी विश्वनाथ धाम पहुंचे।

 

Related posts

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने सैन्य कर्मियों को वीरता पुरस्कार और विशिष्ट सेवा अलंकरण से किया सम्मानित

Zamir Azad

(सीबीडीटी) ने सोशल मीडिया पर प्रसारित कुछ टिप्पणियों का जवाब देते हुए क्या कहा?

आजाद ख़बर

बिहार में कोरोना के 354 संदिग्ध मरीजों की पहचान, एक भी मामला पॉजिटिव नहीं

आजाद ख़बर

Leave a Comment

आजाद ख़बर
हर ख़बर आप तक