13.1 C
New Delhi
January 20, 2022
विदेश स्‍वास्‍थ्‍य

अमेरिका के राष्ट्रपति ट्रम्प का कहना है कि वह डब्ल्यूएचओ के फंडिंग पर रोक लगा देंगे

संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा है कि वह विश्व स्वास्थ्य संगठन, डब्ल्यूएचओ के लिए फंडिंग को रोकेंगे, वैश्विक कॉरोना वायरस के दौरान वैश्विक संगठन चीन-केंद्रित होने का आरोप लगाते हुए कहा के जिनेवा-मुख्यालय वाले विश्व स्वास्थ्य संगठन को संयुक्त राज्य अमेरिका से बड़ी मात्रा में धन प्राप्त होता है।

राष्ट्रपति ट्रम्प ने कहा, उनका प्रशासन डब्ल्यूएचओ को अमेरिकी फंडिंग पर विचार करने  वाला है।  इस बीच, सीनेट की विदेश संबंध समिति के अध्यक्ष सीनेटर जिम रिस्क ने COVID-19 प्रतिक्रिया की डब्ल्यूएचओ से निपटने में स्वतंत्र जांच का आह्वान किया।  श्री रिस्क ने आरोप लगाया कि डब्ल्यूएचओ ने न केवल अमेरिकी लोगों को विफल कर दिया है, यह दुनिया को COVID ​​-19 के अपने  प्रतिक्रिया से  प्रमुख तिरस्कार के साथ विफल कर दिया है।

उन्होंने कहा कि डब्लूएचओ के महानिदेशक डॉ टेड्रोस अदनोम घेब्रेयियस की स्पष्ट अनिच्छा ने चीनी कम्युनिस्ट पार्टी को वैश्विक स्वास्थ्य के न्यूनतम स्तर पर पकड़ रखने के लिए और इस महामारी के प्रसार को कुंद करने के लिए दुनिया की क्षमता को बाधित कर डाला है। उन्होंने आरोप लगाया कि संगठन चीनी सरकार की राजनीतिक कठपुतली बन गया है।

लगभग दो दर्जन सांसदों के एक द्विदलीय समूह ने डब्ल्यूएचओ को फंड न देने के लिए एक प्रस्ताव पेश करने की घोषणा की है के जब तक कि इसके महानिदेशक टेड्रोस घेब्रेयियस इस्तीफा नहीं देते हैं और एक अंतरराष्ट्रीय आयोग चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की असफल COVID -19 प्रतिक्रिया को कवर करने में संगठन की भूमिका की जांच नहीं करती है तब तक फंड नहीं दी जायेगी।

Related posts

माइक पेंस के कार्यालय का एक कर्मचारी कोरोना से संक्रमित

Azad Khabar

तेल कीमतों में गिरावट के बीच रुपया 30 पैसे गिरकर 76.83 रुपये प्रति डॉलर पर

ऐसे और भी हो सकते हैं जनता कर्फ्यू: योगी

Azad Khabar

Leave a Comment

आजाद ख़बर
हर ख़बर आप तक