29.1 C
New Delhi
September 19, 2021
अर्थव्यवस्था

रबी सीजन 2020-21 के दौरान दलहन, तिलहन और गेहूं की खरीद पूरी तेज गति से जारी है

रबी 2020-21 सीजन के दौरान 02.05.2020 तक 2,682 करोड़ रुपये के एमएसपी मूल्य पर 2,61,565 मीट्रिक टन दलहन और 3,17,473 मीट्रिक टन तिलहन की खरीद की गई है जिससे 3,25,565 किसान लाभान्वित हुए हैं। इनमें से 14,859 मीट्रिक टन दलहन और 6706 मीट्रिक टन तिलहन की खरीद 1 और 2 मई, 2020 को मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, कर्नाटक, राजस्थान, उत्तर प्रदेश और हरियाणा जैसे छह राज्यों में की गई। इसके अलावा, रबी विपणन सीजन 2020-21 में एफसीआई में कुल 1,87,97,767 मीट्रिक टन गेहूं प्राप्त हुआ है, जिसमें से 1,81,36,180 मीट्रिक टन गेहूं की खरीद की गई है।

इस बीचग्रीष्मकालीन फसलों की बुवाई क्षेत्र कवरेज निम्नानुसार है:  

  • चावल: पिछले वर्ष की इसी अवधि के दौरान 25.26 लाख हेक्टेयर की तुलना में इस बार ग्रीष्मकालीन चावल के अंतर्गत लगभग 34.80 लाख हेक्टेयर क्षेत्र कवर किया गया।
  • दलहन : पिछले वर्ष की इसी अवधि के दौरान 5.44 लाख हेक्टेयर की तुलना में दलहन के अंतर्गत इस बार लगभग 8.77 लाख हेक्टेयर क्षेत्र कवर किया गया।
  •  मोटा अनाज : पिछले वर्ष की इसी अवधि के दौरान 5.49 लाख हेक्टेयर की तुलना में मोटे अनाज के अंतर्गत इस बार लगभग 9.12 लाख हेक्टेयर क्षेत्र कवर किया गया।
  • तिलहन : पिछले वर्ष की इसी अवधि के दौरान 7.00 लाख हेक्टेयर की तुलना में तिलहन के अंतर्गत इस बार लगभग 8.87 लाख हेक्टेयर क्षेत्र कवर किया गया।

कृषि, सहकारिता एवं किसान कल्याण विभाग, भारत सरकार कोविड 19 महामारी को देखते हुए लॉकडाउन अवधि के दौरान क्षेत्र (फील्‍ड) स्तर पर किसानों और कृषि गतिविधियों को सुविधाजनक बनाने के लिए कई उपाय कर रहा है। लॉकडाउन अवधि अर्थात 24.03.2020 से लेकर अब तक की अवधि के दौरान  प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि (पीएम-किसान) योजना के अंतर्गत  लगभग 9.06 करोड़ किसान परिवारों को लाभान्वित किया गया है और अब तक 18,134  करोड़ रुपये जारी किए गए हैं।

Related posts

बैंकों के प्रमुखों के साथ वित्त मंत्री की बैठक को स्थगित कर दिया गया है

वित्त मंत्रालय ने पीपीएफ, सुकन्या समृद्धि खाते में अनिवार्य न्यूनतम जमा के लिए समय सीमा 30 जून तक बढ़ाया

तेल कीमतों में गिरावट के बीच रुपया 30 पैसे गिरकर 76.83 रुपये प्रति डॉलर पर

Leave a Comment

आजाद ख़बर
हर ख़बर आप तक