29.6 C
New Delhi
March 9, 2021
क्षेत्रीय न्यूज़ संस्कृति

झारखंड में बड़े हर्ष और उल्लास के साथ मनाया गया मकर संक्रांति

अभिजीत सेन (संवादाता पोटका)

झारखंड में मकर संक्रांति का पर्व बड़े ही धूमधाम एवं हर्षोल्लास के साथ मनाया गया सुदूर ग्रामीण क्षेत्रों में और दूर- दुरंत गांव के आदिवासी समुदाय के लोग इस पर्व को बड़े ही धूमधाम के साथ मनाते हैं करीब-करीब एक महीने से सुदूरवर्ती गांव के आदिवासी समुदाय के लोग अपने घर की रंग रंगाई, साफ सफाई तथा नए फसल घर लाने के बाद पहला चावल बनाते हैं. मिट्टी का नया बर्तन में जिस चावल से पीठा बना कर एवं हार्डिया बनाकर देवी देवताओं को चढ़ाते हैं जिसके बाद इसका सेवन करते हैं।

आपको बता दें कि पूरे झारखंड में मकर संक्रांति का प्लीज पर्व को बहुत ही बड़े पर्व के रूप में जाना जाता है पोटका प्रखंड क्षेत्र के इस पर्व को सुदूरवर्ती गांव क्षेत्रों में आदिवासी समुदाय के लोग काफी धूमधाम एवं हर्षोल्लास के साथ मनाते हैं. 1 महीने पहले से ही आदिवासी समुदाय के लोग अपने घर की साफ सफाई करते हैं और घर में सुंदर सुंदर डिजाइन जैसे कि मोर का तस्वीर एवं फूलों की तस्वीर बनाकर घर को सजाते हैं एवं मकर परब का दिन सवेरे नहाने के बाद सभी परिवार के लोग नए नए कपड़े पहनते हैं एवं चावल के गुंडी से बना हुआ पीठा बना कर गांव के लोग अपने अपने परिवार का साथ बैठकर खाता है।

वहीं इस पर्व की सबसे बड़ी विशेषता है कि बच्चे बूढ़े सभी 1 सप्ताह पहले से ही पेड़ की डालियों को इकट्ठा कर एक जगह जमा करते हैं नदी किनारे जहां जैसे ही मकर संक्रांति के रात का 3:00 बजता है वैसे ही सारे गांव के लोग आग लगाकर आग के गर्मी को लेते हैं और नदी तालाबों में स्नान करके फिर उसी का अलाव से अपने को गर्म करते हैं जिसके बाद नए कपड़े पहन कर आते हैं एवं और भगवान को भोग लगाने के बाद इसके बाद सारे परिवार के लोग बैठ कर प्रसाद खाते हैं वहीं समाजसेवी मनोज सरदार का कहना है कि यह बहुत बड़ा पर्व है इस पर्व को मनाने के लिए आदिवासी समुदाय के लोग 1 महीने से तैयारियां करते हैं घर की साफ सफाई भी करते हैं नए कपड़े पहनते हैं और विधि विधान के साथ पूजा अर्चना करते हैं और खेतों से इकट्ठा किए गए धान से चावल बनाते हैं उसी से पीठा बनाकर सभी देवी देवताओं को चढ़ाते हैं उसके बाद प्रसाद को ग्रहण करते हैं।

Related posts

प्रखण्ड विकास पदाधिकारी सह खाद्य आपूर्ति पदाधिकारी ने लाभुकों को जांच कराने का दिया आश्वासन

आजाद ख़बर

भाईचारा,आनंद और प्रेम को बांटने का समय है क्रिसमस, फॉदर गेब्रियल बालमूचु

आजाद ख़बर

विद्या मंदिर रुचाप चांडिल में मनाया गया सुभाष चंद्र बोस की जयंती

आजाद ख़बर

Leave a Comment

आजाद ख़बर
हर ख़बर आप तक