26.1 C
New Delhi
July 31, 2021
अभी-अभी देश

गणतंत्र दिवस के पूर्व आज राष्ट्रपति ने देश को किया संबोधित

न्यूज़ डेस्क दिल्ली
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर आज राष्ट्र को संबोधित किया। अपने संबोधन में राष्ट्रपति ने कहा कि विविधताओं से समृद्ध हमारे देश में अनेक त्यौहार मनाये जाते हैं। परन्तु राष्ट्रीय त्यौहार को सभी देशवासी देशप्रेम की भावना के मिलकर मनाते है। राष्ट्रपति ने कहा विविधताओं से समृद्ध हमारे देश में अनेक त्यौहर मनाये जाते है परन्तु हमारे राष्ट्रीय त्यौहारों को सभी देशवासी राष्ट्रप्रेम की भावना के साथ मनाते है। गणतंत्र दिवस का राष्ट्रीय पर्व भी हम पूरे उत्साह के साथ मनाते हुए अपने राष्ट्रीय ध्वज तथा अपने संविधान के प्रति सम्मान व आस्था प्रकट करते है।
राष्ट्रपति ने कहा कि संविधान में रेखांकित न्याय, स्वतंत्रता, समता और बंधुत्व के जीवन मूल्य हम सबके लिये पुनीत आदर्श है। हम सभी नागरिकों को इन आदर्शों का दृढता और निष्ठापूर्वक पालन करना चाहिये। उन्होंने कहा कि विपरीत प्राकृतिक परिस्थितियों, अनेक चुनौतियों और कोविड की आपदा के बावजूद हमारे किसानों ने कृषि उत्पादन में कोई कमी नहीं आने दी। यह कृतज्ञ देश हमारे अन्नदाता किसानों के कल्याण के लिये पूर्णतया पतिबद्ध है।
आगे उन्होंने कहा इतनी विशाल आबादी वाले हमारे देश को खादयान एवं डेयरी उत्पादों आत्मनिर्भर बनाने वाले हमारे किसान भाई बहनों सभी देशवासी हृदय से अभिनन्दन करते है। विपरीत प्राकृतिक परिस्थितियों में अनेक चुनौतियों और कोविड की आपदा के बावजूद हमारे किसान भाई बहनों ने कृषि उत्पादन में कोई कमी नहीं आने दी। यह कृतज्ञ देश हमारे अन्नदाता किसानों के कल्याण के लिये पूर्णतया प्रतिबद्ध है। जिस प्रकार हमारे परिश्रमी किसान देश की खादय सुरक्षा को सुनिश्चित करने में सफल रहे है उसी तरह हमारी सेनाओं के बहादुर जवान कोरतम परिस्थितियों में देश की सीमाओं की सुरक्षा सुनिश्चित करते रहे है।
राष्ट्रपति ने कहा कि हमारे सैनिक देश की रक्षा का दायित्व हर पल निभाते हैं। हमारे सैनिकों की बहादुरी देशप्रेम और बलिदान पर हम सभी देशवासियों को गर्व है। उन्होंने कहा कि राष्ट्र अंतरिक्ष से लेकर खेल खलिहानों तथा शिक्षण संस्थानों से लेकर अस्पतालों तक हमारे वैज्ञानिकों ने हमारे जीवन और कामकाज को बेहतर बनाया है और उन्होंने दिनरात परिश्रम करते हुए बहुत कम
समय में कोरोना वैक्सीन को विकसित करके पूरी मानवता के कल्याण के लिये एक नया इतिहास रचा है।
राष्ट्रपति ने अपने संबोधन में उन डॉक्टरों और स्वास्थ्य कर्मियों और सफाई कर्मियों का भी जिक्र किया। जिन्होंने अपनी जान जोखिम में डालकर कोविड पीड़ितों की देखभाल की। राष्ट्रपति ने कहा कि कोरोना काल में जम्मू कश्मीर और लद्दाख में निष्पक्ष और सुरक्षित
चुनाव कराना हमारी लोकतंत्र की सराहनीय उपलब्धि रही राष्ट्रपति ने कहा कि खाद्य सुरक्षा, सैन्य सुरक्षा, आपदा तथा बीमारी से सुरक्षा एवं विभिन्न क्षेत्रों में हमारे वैज्ञानिकों ने अपने योगदान से राष्ट्रीय प्रयासों को शक्ति दी है। “खादय सुरक्षा, सैन्य सुरक्षा आपदाओं और बीमारी से सुरक्षा एवं विकास के लिये विभिन्न क्षेत्रों में हमारे वैज्ञानिकों ने अपने योगदान से राष्ट्रीय प्रयासों से शक्ति दी है। अंतरिक्ष से लेकर खेत खलिहानों तथा शिक्षण संस्थाओं से लेकर अस्पतालों तक वैज्ञानिक समुदाय ने हमारे जीवन और कामकाज को बेहतर बनाया है। दिनरात परिश्रम करते हुए कोरोना वायरस को डीकोड करके बहुत कम समय में वैक्सीन को विकसित करके हमारे वैज्ञानिकों ने पूरी मानवता के कल्याण के लिये एक नया इतिहास रचा है”
राष्ट्रपति ने कहा कि पिछले 75 वर्षों में भारत विश्व के आदर्श लोकतंत्र के रूप में उभरा है। इस उपलब्धि के लिये देश के नागरिकों का भी बहुमूल्य योगदान है।

Related posts

20 मार्च का दिन हमारी बच्चियों और महिलाओं के नाम : निर्भया की मां

आजाद ख़बर

हरियाणा में दिसंबर 2022 तक सभी ग्रामीण परिवारों को नल से पीने का पानी उपलब्ध कराने की तैयारी

आजाद ख़बर

रेणुका ने कहा कि उन्होंने आशुतोष को पहली बार यह कहते हुए देखा, मैं इंसान नहीं हूं..

आजाद ख़बर

Leave a Comment

आजाद ख़बर
हर ख़बर आप तक