34.1 C
New Delhi
May 22, 2024
अभी-अभी देश

संसदीय स्थायी समिति ने सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट के न्यायाधीशों द्वारा संपत्ति की अनिवार्य घोषणा की सिफारिश की

एक संसदीय समिति ने सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट के न्यायाधीशों के लिए वार्षिक आधार पर अपनी संपत्ति रिटर्न घोषित करना अनिवार्य बनाने के लिए कानून लाने की सिफारिश की है। कार्मिक, लोक शिकायत, कानून और न्याय पर विभाग से संबंधित संसदीय स्थायी समिति ने अपनी रिपोर्ट ‘न्यायिक प्रक्रियाएं और उनके सुधार’ में कहा कि एक सामान्य प्रथा के रूप में, सभी संवैधानिक पदाधिकारियों और सरकारी सेवकों को अपनी संपत्ति और देनदारियों का वार्षिक रिटर्न दाखिल करना होगा। .

भाजपा के राज्यसभा सांसद सुशील कुमार मोदी की अध्यक्षता वाली स्थायी समिति ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट इस हद तक पहुंच गया है कि जनता को सांसद या विधायक के रूप में चुनाव में खड़े लोगों की संपत्ति जानने का अधिकार है। उन्होंने कहा कि उस स्थिति में यदि कोई सार्वजनिक पद पर है और सरकारी खजाने से वेतन लेता है, तो उसे अनिवार्य रूप से अपनी संपत्ति का वार्षिक रिटर्न प्रस्तुत करना चाहिए। सरकार ने संसदीय पैनल को बताया कि संपत्तियों की नियमित फाइलिंग और उन्हें सार्वजनिक डोमेन में अपलोड करने के लिए तंत्र को संस्थागत बनाने की जरूरत है।

समिति ने सिफारिश की कि केंद्र सरकार सर्वोच्च न्यायालय और उच्च न्यायालयों के न्यायाधीशों के लिए उचित प्राधिकारी को वार्षिक आधार पर अपनी संपत्ति रिटर्न प्रस्तुत करना अनिवार्य बनाने के लिए उचित कानून लाए। इसमें कहा गया है कि उच्च न्यायपालिका के न्यायाधीशों द्वारा संपत्ति की घोषणा से प्रणाली में अधिक विश्वास और विश्वसनीयता आएगी।

Related posts

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी और रूस के राष्‍ट्रपति व्‍लादिमीर पुतिन के बीच 21वां भारत-रूस वार्षिक शिखर सम्‍मेलन नई दिल्‍ली में सम्‍पन्‍न हुआ

जमीनी स्‍तर पर प्रभावी पुलिस व्‍यवस्‍था के लिए उच्‍चस्‍तरीय पुलिस प्रौद्योगिकी मिशन का आह्वान

Zamir Azad

देश में पिछले 24 घंटों के दौरान कोविड-19 के 16 हजार 432 नये मामलों की पुष्टि

आजाद ख़बर

Leave a Comment

आजाद ख़बर
हर ख़बर आप तक