23.5 C
New Delhi
October 7, 2022
Politics Technology World तकनीक राजनीति विवाद

फेसबुक ने म्यांमार चुनाव के दौरान इसके दुरुपयोग को रोकने के उपायों की घोषणा की

फेसबुक ने म्यांमार में आगामी आम चुनावों के दौरान इसके दुरुपयोग को रोकने के उद्देश्य से एक श्रृंखला की घोषणा की है। सोमवार को उपायों की घोषणा करते हुए, फेसबुक ने अपने मंच पर म्यांमार के चुनाव की अखंडता सुनिश्चित करने के लिए खुद को प्रतिबद्ध किया। इसने म्यांमार को समर्पित नागरिक समाज के सदस्यों के साथ एक टीम के गठन की भी घोषणा की।

फेसबुक ने गलत सूचना को हटाने का फैसला किया है जिससे मतदाता दमन हो सकता है या चुनावी प्रक्रिया को नुकसान पहुंचा सकता है। फेसबुक प्लेटफॉर्म से गलत सूचनाओं और अफवाहों को दूर किया जाएगा

नफरत फैलाने वाले भाषण से निपटने के उपायों की घोषणा करते हुए फेसबुक ने कहा कि वह नफरत फैलाने वाले भाषण की पहचान करने के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) को तैनात करेगा। इसने दावा किया कि 2020 की दूसरी तिमाही में इसने म्यांमार में नफरत फैलाने वाली संबंधित सामग्री के 2.8 लाख से अधिक टुकड़े के खिलाफ कार्रवाई की।

राजनीतिक विज्ञापन में पारदर्शिता लाने के लिए, म्यांमार में इस तरह के सभी विज्ञापनों में विज्ञापन के पीछे संगठन या व्यक्ति को दिखाने के लिए ‘टैग’ द्वारा भुगतान किया जाएगा।

गलत सूचना के प्रसार को सीमित करने के लिए, फेसबुक ने फैसला किया है कि जब कोई उपयोगकर्ता एक तस्वीर साझा करता है जो एक वर्ष से अधिक पुरानी है और सामग्री में हिंसक है, तो उन्हें उस आशय का एक संदेश दिखाया जाएगा। यह सुनिश्चित करेगा कि हानिकारक और भ्रामक जानकारी फेसबुक पर संदर्भ से बाहर साझा नहीं की जाती है।

फेसबुक ने इस साल मार्च से अपने प्लेटफॉर्म के माध्यम से गलत सूचना के प्रसार को कम करने के लिए एक तृतीय पक्ष तथ्य जाँच कार्यक्रम पेश किया है। म्यांमार में, फेसबुक तीन फैक्ट-चेकिंग पार्टनर्स – BOOM, AFP Fact Check और Fact Crescendo के साथ काम कर रहा है।

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ने बताया कि यह सार्वजनिक बहस में हेरफेर करने के उद्देश्य से समन्वित अभियानों को खोजने और रोकने के लिए काम कर रहा है।

म्यांमार 8 नवंबर को अपना आम चुनाव कराने जा रहा है।

म्यांमार में रोहिंग्याओं के खिलाफ हिंसा को भड़काने के लिए अपने मंच का दुरुपयोग करने की अनुमति देने के लिए पिछले दिनों फेसबुक की आलोचना की गई थी

Related posts

बीते रात  हाइवा ट्रक अनियंत्रित होकर रोड के समीप घर जा घुसा: पोटका

आजाद ख़बर

‘प्रधानमंत्री राहत कोष’ होने के बावजूद देश में ‘पीएम केयर फंड’ बनाने की जरूरत क्यों पड़ी?

त्रिलोक सिंह

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कल अपने आवास में राज्य के विभिन्न जिलों से पहुंचे आम लोगों की शिकायतें सुनीं

आजाद ख़बर

Leave a Comment

आजाद ख़बर
हर ख़बर आप तक