26.1 C
New Delhi
October 17, 2021
क्षेत्रीय न्यूज़ राज्य शिक्षा

शिक्षा अधिकार अधिनियम 2011 का हो रहा खुले आम उल्लंघन: झारखंड

अभिजीत सेन (संवादाता पोटका)

पोटका: उत्क्रमित उच्च विद्यालय जहातू में शिक्षा अधिकार अधिनियम 2011 का हो रहा है खुल्लम खुल्ला उल्लंघन वर्ग 9 से 10 तक में नहीं है एक भी शिक्षक, माध्यमिक परीक्षा सर पर है हाई स्कूल में 182 बच्चे अध्ययनरत है।

आपको बता दें कि उत्क्रमित उच्च विद्यालय जहातू में केजी से लेकर वर्ग 10 तक तक की पढ़ाई दो सरकारी शिक्षक एवं एक पारा शिक्षक के भरोसे चल रहा है। विद्यालय में कुल 462 बच्चे नामांकन है जिसमें वर्ग 9 एवं 10 में 182 बच्चे नामांकन लिए हैं शिक्षा अधिकार अधिनियम 2011 के अनुसार 30 बच्चे पर एक शिक्षक होना चाहिए यानी कुल 16 यूनिट शिक्षक की आवश्यकता है मगर 3 शिक्षक से ही पूरा विद्यालय संचालित हो रहा है।

प्रधानाध्यापक धनु मांझी का कहना है कि विद्यालय जब पूरी तरह से संचालित होगा तो पूरी तरह से अव्यवस्था उत्पन्न हो जाएग। विद्यालय मैं शिक्षकों की भारी कमी है जिसके कारण पठन-पाठन सही तरीके से नहीं हो पाता है और सुदूर ग्रामीण क्षेत्र होने से सभी बच्चे गरीब परिवार से आते हैं जो अभिभावकों द्वारा दिए हुए पैसे को बचा बचा कर ट्यूशन से पढ़ाई कर रहे हैं।

एसएमडीसी अध्यक्ष देव आनंद साहू एवं स्थानीय लोगों का कहना है कि 2017 से लेकर 2021 तक 4 सालों से लगातार जिला शिक्षा पदाधिकारी, जिला शिक्षा अधीक्षक, उपायुक्त जमशेदपुर, मुख्यमंत्री कार्यालय सभी को इसकी सूचना कई बार दी गई मगर अब तक एक भी शिक्षक नहीं दिया गया।

विद्यालय के छात्र-छात्राएं कहते हैं कि एक – दो क्लास ही मात्र पढ़ाई होता है बाकी हम लोग पैसे इकट्ठा करके ट्यूशन पढ़ कर पढ़ाई कर रहे हैं क्योंकि विद्यालय में शिक्षक नहीं है जिसके कारण पढ़ाई नहीं हो पाती है।

वही विद्यालय से पूर्व मे सेवानिवृत्त हुए शिक्षक निखिल मंडल का कहना है कि शिक्षा अधिकार अधिनियम 2011 का खुलम खुला उल्लंघन है विद्यालय को उत्क्रमित कर दिया गया मगर एक भी शिक्षक नहीं दिया गया जबकि समय-समय पर सरकार की ओर से स्कूल चले हम अभियान के तहत बच्चों को जोड़ा गया मगर शिक्षक की व्यवस्था नहीं की गई जिसके कारण विद्यालय में मात्र 3 शिक्षक के सहारे केजी से लेकर वर्ग 10 तक की पढ़ाई छात्र कर रहे हैं एसएमडीसी के अध्यक्ष देवानंद साहू एवं ग्रामीणों का कहना है कि 15 मार्च तक विद्यालय में शिक्षक नहीं दिया गया तो विद्यालय की तालाबंदी की जाएगी।

 

“व्यक्त किए गए और लिखे गए विचार अथवा खबर पत्रकार के स्वयं के हैं। आजाद खबर द्वारा हूबहू खबर को छापी गई है।”

Related posts

बस के पलटने से 12 श्रमिक हुए घायल

संयुक्त ग्रामसभा मंच का हुआ बैठक,लैंड पुल के खिलाफ विरोध

आजाद ख़बर

मझगाँव के सभी स्कूलों के प्रधानाध्यापक गुरु गोष्टि में हुए शामिल

Leave a Comment

आजाद ख़बर
हर ख़बर आप तक