38.1 C
New Delhi
May 21, 2022
देश विचार

विवाद निवारण में न्‍यायालय का सहारा लेना अंतिम उपाय होना चाहिए- एन.वी. रमना

राष्ट्रीय समाचार डेस्क

प्रधान न्यायाधीश एन.वी. रमना ने कहा कि विवाद निवारण में न्‍यायालय का सहारा लेना अंतिम उपाय होना चाहिए। उन्होंने सुझाव दिया कि पंचाट और मध्यस्थता के जरिए समाधान निकाला जा सकता है जिससे समय और धन की बचत होगी। हैदराबाद में अंतर्राष्ट्रीय मध्यस्थता और मध्यस्थता केंद्र के कर्टन रेज़र और हितधारकों के सम्‍मेलन में प्रधान न्यायाधीश ने कहा कि हैदराबाद  अंतर्राष्ट्रीय मध्यस्थता केंद्र स्थापित करने के लिए सही स्‍थान है। उन्होंने कहा कि व्यापक विचार-विमर्श से पारस्परिक रूप से स्वीकार्य समाधान खोजने को विशेष रूप से विभिन्न क्षेत्रों में बढ़ती आर्थिक गतिविधियों और वाणिज्य के मद्देनजर महत्व मिला है।

उच्‍चतम न्‍यायालय के न्यायाधीश न्यायमूर्ति एल नागेश्वर राव ने अपने सम्‍बोधन में कहा कि विभिन्न अदालतों में चार करोड़ से अधिक मामले लंबित हैं। तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव और उच्‍चतम न्‍यायालय और उच्च न्यायालय के कई न्यायाधीशों, अधिवक्ताओं और हितधारकों ने सम्मेलन में भाग लिया।

Related posts

हरियाणा में दिसंबर 2022 तक सभी ग्रामीण परिवारों को नल से पीने का पानी उपलब्ध कराने की तैयारी

आजाद ख़बर

नई शिक्षा नीति देश की आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए महत्वपूर्ण है: पीएम मोदी

आजाद ख़बर

नयी शिक्षा नीति छात्रों को सम्पूर्ण शिक्षा प्रदान कर उनके चरित्र को संवारने पर केन्द्रित है: केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल

आजाद ख़बर

Leave a Comment

आजाद ख़बर
हर ख़बर आप तक